Sunday, October 19, 2008

IMF की बारी

संसार के पुरातन पेशे में,
से एक की दुहाई
सल्तनतें लूट गई,
पर समझ नही आई

अब IMF की बारी .

आधुनिक अमरीकी समाज
चीफ कर रहे थे मसाज
स्वंय पति देव रिलीज़ कर रहे टेप
पर जाँच होगी

मुख्य बिदु ये हे
कही positinal advantage ,
तो नही लिया
निर्णय अदालत करेगी .......

10 comments:

मोहन वशिष्‍ठ said...

आधुनिक अमरीकी समाज
चीफ कर रहे थे मसाज
स्वंय पति देव रिलीज़ कर रहे टेप
पर जाँच होगी

once a great sixer proudfully poem

राज भाटिय़ा said...

बहुत ही सुन्दर
धन्यवाद

योगेन्द्र मौदगिल said...

वाह...
अच्छा लगा आपके इस काव्यचिंतन को पढ़ कर..

भूतनाथ said...

मुख्य बिदु ये हे
कही positinal advantage ,
तो नही लिया
निर्णय अदालत करेगी .......
बहुत सुंदर ! बधाई !

दीपक "तिवारी साहब" said...

बहुत जोरदार कहा ! मजा आगया !

Vivek Gupta said...

बहुत सुंदर ! बधाई !

seema gupta said...

मुख्य बिदु ये हे
कही positinal advantage ,
तो नही लिया
निर्णय अदालत करेगी ..

" ha ha ha ha or agar adalt bhee bik gyee to kya hoga, aaj kul to paisa hee sub kuch hai na... again a good expresion"

Regards

मनुज मेहता said...

मुख्य बिदु ये हे
कही positinal advantage ,
तो नही लिया
निर्णय अदालत करेगी .......

wah kya kataksh makrand bhai, jawab nahi

स्वंय पति देव रिलीज़ कर रहे टेप
पर जाँच होगी

bahut khoob

मोहिन्दर कुमार said...

पहली बार आपके ब्लोग पर आया हूं.. अच्छा लगा पढ कर... अब तो आना जाना लगा रहेगा... फ़ोटो बदल दीजिये.. शादी शुदा वाली नहीं लगती :)

डॉ० कुमारेन्द्र सिंह सेंगर said...

किस कदर टूटेगा इंसान ये किसे मालूम, कहाँ तक जायेगी ये रहगुजर किसे मालूम.
देर से कई दिन बाद आने के लिए क्षमा करियेगा.