Tuesday, March 2, 2010

स्मार्ट

गर्ल फ्रेंड बन संवर कर काफी पीने
क्लब में आये
साथ में कुछ फूल भी लाये
पर बीबी घूंघट में नज़र आये

हम तो करें मोबाइल पर घूटर घू
पर बीबी को फ़ोन लैंड लाइन पर भी नहीं आये

हम रात में भी पार्टी मनाएं
पर बीबी घर से बाहर न जाये

हम संवारे देश का भविष्य
कल का इतिहास
पर घर का भूगोल
पुराना ही नज़र आये

ऐशे सामाजिक फ्राड
लगा रहे आवाज़
हम आधुनिक हो रहे हें

4 comments:

ज्ञानदत्त पाण्डेय Gyandutt Pandey said...

भारत स्प्लिट पर्सनालिटी का देश है!

ताऊ रामपुरिया said...

वाह ये जोरदार सतका बैठाया प्यारे.

रामराम.

ताऊ रामपुरिया said...

होली की रामराम.

bhawna said...

ऐशे सामाजिक फ्राड
लगा रहे आवाज़
हम आधुनिक हो रहे हें .....bahut badhiya.